Mystrudy24 : पानीपत के तीन युद्ध 1, 2, 3

पानीपत के युद्ध: पानीपत में तीन ऐतिहासिक लड़ाईयां हुईं जो भारतीय इतिहास में बहुत अहम् घटना रही है :

पानीपत का पहला युद्ध (21, April 1526), उत्तरी भारत में लड़ा गया था, और इसने इस इलाके में मुग़ल साम्राज्य की नींव रखी। यह उन पहली लड़ाइयों मे से एक थी जिसमें बारूद, आग्नेयास्त्रों और मैदानी तोपखाने को लड़ाई में शामिल किया गया था। सन् 1526 में, काबुल के तैमूरी शासक ज़हीर उद्दीन मोहम्मद बाबर, की सेना ने दिल्ली के सुल्तान इब्राहिम लोधी, की एक ज्यादा बड़ी सेना को युद्ध में परास्त किया। युद्ध को 21 अप्रैल को पानीपत नामक एक छोटे से गाँव के निकट लड़ा गया था जो वर्तमान भारतीय राज्य हरियाणा में स्थित है। पानीपत वो स्थान है जहाँ बारहवीं शताब्दी के बाद से उत्तर भारत के नियंत्रण को लेकर कई निर्णायक लड़ाइयां लड़ी गयीं।


पानीपत का दूसरा युद्ध (5, November 1556),  पानीपत का द्वितीय युद्ध उत्तर भारत के हिंदू शासक सम्राट हेमचंद्र विक्रमादित्य (लोकप्रिय नाम- हेमू ) और अकबर की सेना के बीच 5 नवंबर, 1556 को पानीपत के मैदान में लड़ा गया था। अकबर के सेनापति खान जमान और बैरम खान के लिए यह एक निर्णायक जीत थी।  इस युद्ध के फलस्वरूप दिल्ली पर वर्चस्व के लिए मुगलों और अफगानों के बीच चलने वाला संघर्ष अन्तिम रूप से मुगलों के पक्ष में निर्णीत हो गया और अगले तीन सौ वर्षों तक मुगलों के पास ही रहा।


पानीपत का तीसरा युद्ध (14, January 1761),  पानीपत का तृतीय युद्ध अहमद शाह अब्दाली और मराठों के बीच।पानीपत की तीसरी लड़ाई (95.5 किमी) उत्तर में मराठा साम्राज्य और अफगानिस्तान के अहमद शाह Abdali, दो भारतीय मुस्लिम राजा Rohilla अफगान दोआब, और अवध के नवाब Shuja-उद-Daula (दिल्ली के सहयोगी दलों ) के एक गठबंधन के साथ अहमद शाह Abdali के एक उत्तरी अभियान बल के बीच पर 14 जनवरी 1761, पानीपत, के बारे में 60 मील की दूरी पर हुआ | लड़ाई 18 वीं सदी में सबसे बड़े ,लड़ाई में से एक माना जाता है और एक ही दिन में एक क्लासिक गठन दो सेनाओं के बीच लड़ाई की रिपोर्ट में मौत की शायद सबसे बड़ी संख्या है।

 




 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *